Dell Computers Success Story in Hindi | Founder Michael Dell Biography

दुनिया के जाने माने कंप्यूटर dell टेक्नोलॉजी के फाउंडर माइकल डैल जिन्होंने बचपन से ही अपने दिमाक को कुछ यू चलाया की सिर्फ १० वर्ष की उम्र से उन्होंने इन्वेस्टमेंट करना शुरु कर दिया और १२ वर्ष तक की उम्र तक उन्होंने 2000 $ तक की सेविंग कर ली और हद्द तो तब हो गई जब उनकी इनकम उनकी स्कूल टीचर से ज्यादा हो गई

अमेरिका के हुसतन में माइकल का जन्म हुआ था स्कूल की पढाई करने के बाद biolozy पड़ने के लिए उनका टेक्सस विश्व विद्यालय में दाखिला हो गया माता पिता चाहते थे की उनका होनहार बीटा डाक्टर बने उसे मात्र १५ साल की उम्र में कंप्यूटर भी लाके दिया माइकल को शुरू से ही कंप्यूटर में बहुत ही इंटरेस्ट था और फिर एक ही साल बाद माइकल का biolozy से मन उठ गया माइकल को कंप्यूटर ज्यादा रोमांचक लगने लगा माइकल का दिमाक एइसे दौड़ने लगा की आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है और सी बहुत साड़ी चीजे माइकल ने अपने सारे कंप्यूटर खोल के देखे  की आखिर ये बना कैसे है माइकल का एइसा करना माता पिता को अजीब भी लगा

एक कंपनी का कंप्यूटर खोल देने के बाद माइकल दुसरे कंपनी का भी कंप्यूटर खरीद कर लाया और उसे भी उसने खोल दिया और देखा और समझा और अंत में अंत में उसकी दौड़ भाग रंग लाइ माइकल को समझ में आ गया की कंप्यूटर कैसे काम करता है उसके बाद माइकल ने अखबार बेचकर और सब कुछ पैसे रखे थे उन पैसे से अपने unvercity में खुद कंप्यूटर बनाना शुरू कर दिया और उन्होंने कंप्यूटर बना भी लिया माइकल का सोचना था की लोगो के हिसाब से उनके लिए कंप्यूटर बनाना चाहिए माइकल ने कंपनी शुरू कर दी और नाम रखा PCG Limited

माइकल कस्टमर को सीधा कंप्यूटर बेचने में विश्वास रखते थे इसलिए उनके कंप्यूटर सस्ते भी थे बेचने के साथ साथ वो कस्टमर को संतुस्ठ करने का भी खूब अच्छी तरह ख्याल रखते थे उनकी ये तरकीब और कारोबार दोनों चल निकले 1983 में माइकल ने अपने कंपनी का नाम बदला और नया नाम दिया dell कारपोरेशन  धीरे धीरे कारोबार बढता fggfdg गया क्यू की इ माइकल के काम करने का तरीका लोगो

को बहुत पसंद आया जब माइकल की उम्र मात्र २७ वर्ष की थी तभी उनकी कंपनी dell की दुनिया भर में धूम मच गई कंपनी ने पहले ही साल 6 million $ की बिक्री की जो अगले साल बढकर 34 Million $ में हो गई 1987 तक dell अमेरिका का Million$ कंपनी बन गई इसी साल कंपनी ने विधेशी बाजारों में प्रवेश किया

इसमें सबसे मजे की बात ये है की माइकल ने जब कंपनी शुरू की थी तब उनके पास सिर्फ 1000 $ की पूंजी थी इतने कम पैसे में कोई कंपनी चलाना कोई खेल का काम नहीं था माइकल शुरुआत में आर्डर पे कंप्यूटर बनाते थे मतलब की जब उनके पास आर्डर आते थे और उसपे उन्हें कुछ पैसे मिलते थे तब वे कंप्यूटर बनाना चालू करते थे और इसके इनाम स्वरुप ग्राहक को कंप्यूटर सस्ते में मिलता था और माइकल का लाभ बढता चला गया कम लागत और ज्यादा लाभ सफल वैवशाय की नीव है  

जब इन्टरनेट का दौर शुरू हुआ तो dell ने इसका खुद फायदा उठाते हुए ऑनलाइन सेल्लिंग शुरू कर दी dell ने खा हमारे लिए इन्टरनेट किसी सपने से कम नहीं इसमें सौदे की लागत 0 होती है 1996 में dell ने एकोमेर्स शुरू कर दिया 2000 तक आते आते हर दिन 5 cr की बिक्री होने लगी आज कंपनी की आधी से ज्यादा बिक्री इन्टरनेट के माध्यम से होती है

1996 में उन्होंने सर्वर लांच किया और भी बहुत सारी पर्सनल डिवाइसेस भी बनाने लगे लेकिन कहते है न की जो तेज गति से दौड़ते है अक्सर वो दुर्घटना भी कर बैठते है सन 2010 में इन्वेस्टर्स को आधी अधूरी देने और एकाउंटिंग में गड़बड़ी के माइकल dell ने जहाँ 4 Million $ दंड चुकाया है वही उनके द्वारा स्थापित माइकल सुजन फाउंडसेन सारी दुनिया खास कर अमेरिका और भारत के बच्चो की शिक्षा और स्वाथ पर अरबो $ खर्च कर रही है ……….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!